हम यहां बंग्लादेश और पाकिस्तान के लिए नहीं, झारखंडियों के लिए बैठे हैं : सीएम

By | December 21, 2021

कहा 29 दिसंबर से स्कूलों में विशेष ड्राइव चलाकर बनाया जाएगा जाति प्रमाण पत्र

रांची। जाति प्रमाण बनाने में हो रही परेशानी पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सदन में बयान दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जाति प्रमाण पत्र की समस्या अभी की नहीं है। जाति प्रमाण पत्र पर सरकार ने संज्ञान लिया है। स्कूल के स्तर पर 29 दिसंबर के बाद सभी स्कूलों में चाहे वह सरकारी हो या गैरसरकारी स्कूल हो जाति प्रमाण पत्र बनेगा। यह प्रमाण पत्र जन्म के साथ ही बनेगा। इसके लिए विशेष ड्राइव चलेगा। हेमंत सोरेन भाजपा विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा के सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि हमलोग झारखंड के लोग ही बैठे हैं। यह मुद्दा आदिवासी-मुसलमानों का नहीं है। ये लोग संप्रदायवाद की ओर क्यों चले जाते हैं। हम यहां बंग्लादेश और पाकिस्तान के लिए नहीं बैठे हैं, झारखंडियों के लिए बैठे हैं। हर बात में सिर्फ मुसलमानों की बात क्यों होती है। भाजपा विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि झारखंड प्रदेश आदिवासी-मूलवासियों के लिए बना। आज दो दिनों से सरकार का बयान इसके विरोध में आ रहा है। चीक बड़ाईक, लोहरा जनजाति को जाति प्रमाण पत्र बनाने में काफी दिक्कतें हो रही है। बंधु तिर्की बहुत बोलते हैं मगर अब चुप हैं। सरकार के निर्णय से कई जाति उपेक्षित हो रहे है। बंग्ला देश से आए लोगों का प्रमाण पत्र न बने।

खतियानी रैयतों के पंजी टू में नाम दर्ज कराया जाय : राजेश कच्छप
शून्य काल में माले विधायक ने सहिया के बकाए मानदेय भुगतान की मांग की। कांग्रेस विधायक राजेश कच्छप ने खतियानी रैयतों के पंजी टू में लोड दर्ज नहीं है। इसके लिए सभी अंचलों में विशेष कैंप लगाया जाए। इसके कारण खाता में छेड़छाड़ की संभावना बनी हुई है। इसलिए पंजी में हुई गबड़बड़ी में सुधार किया जाए। भूषण बाड़ा ने दूसरे भाष उर्दू के शिक्षकों की रिक्तियों को भरने की मांग की। प्रदीप यादव ने गृह रक्षा वाहिनी गोड्डा सहित अन्य जिलों में लंबित है। उम्र सीमा पार कर रहा है। सरकार बहाली प्रकिया शुरू करने का निर्देश डीसी को दें। अंबा प्रसाद हजारीबाब के ढेंगाबली कांड में छह केस हुए थे। जिसमें कंपनी को क्लीन चीट दे दी गयी। इससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। इसकी जांच एसआईटी से करायी जाए। बंधु तिर्की ने अपने क्षेत्र में पथ निर्माण की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *