अर्जेंटीना फाइनल में, दूसरी बार खिताबी मुकाबला खेलेंगे मेसी, दर्शकों में है उत्साह


लुसैल (कतर) । फीफा वर्ल्ड कप 2022 के पहले सेमीफाइनल को अर्जेंटीना ने जीत लिया है। लुसैल स्टेडियम में खेले गए मुकाबले को में अर्जेंटीना ने क्रोएशिया को 3-0 से हराकर बाहर कर दिया। टीम ने छठी बार टूनार्मेंट के फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है। टीम ने आखिरी बार 2014 में खिताबी मुकाबला खेला था। वहां उसे हार मिली थी। अर्जेंटीना ने 1978 और 1986 में टूनार्मेंट को अपने नाम कर चुका है। अब रविवार को फाइनल मुकाबले में उसकी भिड़ंत फ्रांस और मोरक्को के बीच होने वाले मुकाबले की विजेता से होगा। वहीं क्रोएशिया शनिवार को तीसरे स्थान के लिए खेलने उतरेगा।
अर्जेंटीना के कप्तान लियोनेल मेसी फाइनल मुकाबले में उतरते ही वर्ल्ड रिकॉर्ड बना देंगे। वह फीफा वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा मैच खेलने वाले खिलाड़ी बन जाएंगे। फाइनल मुकाबला उनका फीफा वर्ल्ड कप में 26वां मुकाबला होगा।


मोड्रिच हुए सब्स्टिट्यूट
अर्जेंटीना ने 75 वें मिनट में दो सब्स्टिट्यूट खिलाड़ियों को मैदान पर उतरा। टीम के लिए दूसरा और तीसरा गोल करने वाले अल्वारेज के साथ ही रोड्रिगो डी पॉल को बाहर कर दिया। उनकी जगह रोमा के लिए खेलने वाले पाउलो डायबाला और मिडफील्डर एक्सेक्विएल पलासियोसको मैदान पर उतारा गया। वहीं क्रोएशिया ने 81वें मिनट में मोड्रिच की जगह माजर को मैदान पर भेजा।


70वें मिनट में अल्वारेज को दूसरा गोल
मुकाबले के 69वें मिनट में अर्जेंटीना ने तीसरा गोल कर दिया। इस गोल ने क्रोएशिया की बची हुई उम्मीदें भी खत्म कर दी। मेसी इस क्रोएशियन खिलाड़ी को छकाते हुए गेंद को लेकर गोल पोस्ट के पास पहुंचे। डिफेंडर उन्हें रोकने की कोशिश कर रहे थे और मेसी ने गेंद को अल्वारेज की तरफ पास कर दिया। उन्होंने उसे पोस्ट में डालने में कोई गलती नहीं कि और टीम की बढ़त 3-0 कर दी।


अर्जेंटीना ने डिफेंस को किया मजबूत
अर्जेंटीना ने 62वें मिनट में मिडफील्डर लिएंड्रो परेडेस को मैदान से बाहर बुला लिया। उनकी जगह डिफेंडर लिसेंड्रो मार्टिनेज मैदान पर उतरे। टीम का पूरा फोकस अब डिफेंस को मजूबत करने पर है। इसी वजह से यह फैसला लिया गया है।


5 मिनट बाद ही दूसरा गोल
अर्जेंटीना ने 5 मिनट बाद ही दूसरा गोल भी कर दिया। जूलियन अल्वारेज ने काउंटर अटैक पर गोल कर अपने टीम की बढ़त दोगुनी कर दी। उनके इस गोल से क्रोएशिया मुकाबले में काफी पीछ हो गया है। 22 साल के अल्वारेज का यह टूनार्मेंट में दूसरा गोल है।

सेमीफाइनल में मोरक्को का मुकाबला फ्रांस से
अल बैत । फीफा वर्ल्ड कप 2022 में बुधवार को फ्रांस और मोरक्को के बीच दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला होगा। मोरक्को ने इस वर्ल्ड कप में सिर्फ एक ही गोल खाया है। वह भी मोरक्को के खिलाड़ी ने ही गलती से किया। यह कनाडा के खिलाफ आया था। डिफेंडिंग चैंपियंस फ्रांस एक भी नॉकआउट मुकाबले को पेनल्टी शूट आउट तक ले कर नहीं गया। सभी मैच उसने गोल स्कोर कर के जीते। फ्रांस के पास लगातार दूसरे वर्ल्ड कप के फाइनल में जाने का मौका है। वहीं, मोरक्को फाइनल खेलने वाला पहला अफ्रीकी देश बनने के करीब है।


हेड टु हेड
फ्रांस और मोरक्को ने 11 बार एक-दूसरे का सामना किया। फ्रांस का पलड़ा भारी रहा, उसने 7 मुकाबले जीते और मोरक्को ने 1 मैच जीता। बाकी 3 मैच ड्रॉ रहे। दोनों टीमें ज्यादातर समय छोटे टूनार्मेंट में ही भिड़ीं। अब पहली बार ही दोनों टीमें वर्ल्ड कप में एक दूसरे के सामने होंगी।


मोरक्को ने बड़ी टीमों को हराया
यह वर्ल्ड कप मोरक्को के लिए खास रहा है। उसने पहले बेल्जियम की गोल्डन जनरेशन को हराया। इसके बाद राउंड आॅफ 16 में स्पेन को हरा कर उन्हें टूनार्मेंट से बाहर कर दिया। इसके बाद क्वार्टर फाइनल में उसने रोनाल्डो समेत पुर्तगाल के सपने तोड़ दिए।
इस वर्ल्ड कप में मोरक्को का डिफेंस मजबूत दिखाई दिया है। टीम ने पूरे वर्ल्ड कप में अब तक एक भी विपक्षी खिलाड़ी से गोल नहीं खाया। कनाडा के खिलाफ पड़ा एक मात्र गोल मोरक्को के खिलाड़ी ने ही गलती से कर दिया था। टीम के गोलकीपर बोनो इस साल शानदार फॉर्म में है। वे स्पेन की टॉप लीग सेवीया के लिए गोलकीपिंग करते हैं।


फ्रांस का डिफेंस कमजोर
वर्ल्ड कप के दावेदारों में से एक मानी जा रही फ्रांस की टीम मजबूत है। लेकिन, अब तक फ्रांस ने 1 भी मैच में क्लीन शीट नहीं ली। टीम ने हर मैच में कम से कम 1 गोल खाया। हालांकि, फ्रांस ने ग्रुप ऊ के पहले मुकाबले में आॅस्ट्रेलिया को 4-1 से हराया। जबकि, दूसरे मैच में डेनमार्क को 2-1 से हराया। क्वालीफाई होने के बाद टीम ने ट्यूनीशिया ने खिलाफ ग्रुप स्टेज मैच में अपने प्रमुख प्लेयर्स को रेस्ट दिया। इसका उसे खामियाजा भूगतना पड़ा और टीम 1-0 से हार गई। राउंड आॅफ 16 में फ्रांस ने पोलैंड को 3-1 से हराया।
क्वार्टर फाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ 2-1 से जीत हासिल की। हालांकि, उस मैच में डिफेंस में बड़ी गलती देखने को मिली। जब फ्रांस के डिफेंडर ने बेवजह पेनल्टी बॉक्स में 2 बार फाउल किए, जिस कारण इंग्लैंड को पेनल्टी मिल गई। लेकिन, फ्रांस की किस्मत अच्छी रही और इंग्लैंड पेनल्टी में स्कोर करने से चूक गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *