एचइसी को बचाने की अपील के साथ सड़क पर इंजीनियर छाने जलेबी

कल निकालेंगे पैदल मार्च में बजायेंगे ताली और थाली, आमलोगों से सहयोग की अपील
अधिकारियों ने कहा कि एलियन सीएमडी की वजह से जलेबी जैसी हो गयी जिंदगी

रांची। हेवी इंजीनियरिंग कॉपोर्रेशन (एचईसी) के इंजीनियर मदर आॅफ आॅल इंडस्ट्रीज को बचाने के लिए पिछले एक महीने से सड़क पर उतर आये हैं। आंदोलन के तहत एचईसी के इंजीनियरों ने आज एक अलग तरह का काम कर प्रबंधन और लोगों का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट कराया। आंदोलन कर रहे एचइसी के अधिकारियों ने आज कंपनी मुख्यालय के बाहर सड़क पर जलेबी छानकर अपना विरोध जताया। बताया कि अब शनिवार को ताली बजायेंगे। थाली बजायेंगे और लोगों से अपील करेंगे कि वे एचईसी को बचाने के लिए आगे आयें। एचईसी के एक इंजीनियर ने पत्रकारों से बता करते हुए कहा कि कंपनी के एलियन सीएमडी की वजह से यहां काम करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों की जिंदगी वैसी ही जटिल हो गयी है। जैसी जलेबी की बनावट होती है। यही वजह है कि इंजीनियर्स ने जलेबी छानकर विरोध-प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा कि हमारी जिंदगी ऐसे मोड़ पर पहुंच गयी है, जहां से अब उम्मीद की कोई किरण नजर नहीं आ रही है। इस अधिकारी ने अपना नाम भी पत्रकारों को कुछ अलग अंदाज में बताया। उन्होंने अपना नाम इस तरह से बताया, हम हैं एचईसी प्रबंधन और हमारे एलियन सीएमडी के कुप्रबंधन से मजबूर और एक त्रस्त अधिकारी। उन्होंने बताया कि कल शनिवार को सुबह साढ़े 10 बजे से साढ़े 11 बजे के बीच एचईसी के अधिकारी और कर्मचारी धुर्वा गोल चक्कर से एचईसी मुख्यालय तक एक मार्च निकालेंगे।

आम लोगों से एचईसी के इंजीनियरों ने की ये अपील
कल निकाले जाने वाले मार्च के दौरान शामिल लोग ताली और थाली बजायेंगे। लोग अपने साथ थाली और चम्मच लेकर आयेंगे। लोग ताली और थाली बजाकर विरोध-प्रदर्शन करेंगे। अधिकारी ने अपील की है कि रांची और झारखंड के सभी लोग एचईसी को बचाने के लिए आगे आयें। अपील किया गया कि सभी मजदूर, कर्मचारी, एचईसी के आसपास के दुकानदार संघ और झारखंड के लोग चम्मच और थाली लेकर आयें इस विरोध मार्च में शामिल हों। एचईसी के अधिकारियों और कर्मचारियों के आंदोलन को मजबूती प्रदान करें।

ताली और थाली बजाने से होता है सकारात्मक ऊर्जा का संचार
एचईसी के अधिकारी ने कहा कि ताली और थाली बजाने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इससे बड़ी-बड़ी महामारी दूर हो जाती है। अगर कोरोना महामारी ताली और थाली बजाने से दूर हो सकती है। तो क्या हम ऐसा करके एचईसी को नहीं बचा सकते। क्या हमारा 13 महीने का वेतन भुगतान नहीं हो सकता। हमारी भुखमरी की समस्या भी इससे दूर हो सकती है। इसलिए हमने ताली और थाली बजाते हुए धुर्वा गोल चक्कर से एचईसी मुख्यालय तक मार्च करने का निर्णय किया है।

कुप्रबंधन का जिम्मेदार एचइसी प्रबंधन
अधिकारी ने एचईसी की बदहाली के लिए प्रबंधन के कुप्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि हमारी कंपनी के सीएमडी एलियन सीएमडी हैं। जिनके पास कंपनी को बेहतर तरीके से चलाने का रोडमैप नहीं है। यही वजह है कि कंपनी में काम कर रहे लोग भुखमरी की कगार पर पहुंच गये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *