शहीद शेख भिखारी के गांव खुदिया लोटवा आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित

गांव के विकास व सुंदरीकरण के लिए 9 महीना पहले राज्य सरकार से मिल चुकी है स्वीकृति
मार्च 2022 में 59 लाख योजना की स्वीकृति के बाद भी आज तक कार्य नहीं हुआ शुरू

रांची। शहीद शेख भिखारी के ओरामांझी के गांव खुदिया लोटवा के सुंदरीकरण के लिए 4 मार्च 2022 को ही राज्य सरकार की ओर 59 लाख रुपये की स्वीकृति मिल चुकी है। लेकिन अब तक क्यों 1857 की जंगे आजादी में अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर शहीद के गांव में विकास योजनाओं का शिलान्यास नहीं हो रहा है। इससे आसपास के ग्रामीणों में रोष है। भले ही शहीद के वंशज हर रोज सुबह शाम गांव में विकास योजनाओं को धरातल में उतरते देखने की ख्वाहिश में जी रहे हैं। शहीद ने जिस ख्वाहिश के साथ इस देश के आजादी में अपनी जान दी उसके वंशज आज भी दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। गांव में विकास की किरण तक नहीं पहुंचती है। इसके लिए सरकार और उसके अधिकारी जिम्मेवार है। स्थानीय लोगों का कहना है कि देश के खातिर जान देने वाले शहीद के वंशजों एवं गांव में सभी सुविधाएं मुहैया कराई जानी चाहिए था। ताकि शहीद के कुबार्नी का हक अदा हो सके। लेकिन किसी सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिये। भले ही 8 जनवरी को गांव में हर साल नेता पहुंचते हैं और शहीदों को तरह-तरह की सुविधा देने कि बात कह कर चले जाते हैं। लेकिन कोई साक्षात कार्य धरातल पर नहीं दिखती है। बड़े दिनों बाद राज्य पर्यटन विभाग से 59 लाख की योजना का स्वीकृति मिला। लेकिन उसमें भी देर सबेर हो रहा है जिससे ग्रामीण काफी नाराज दिख रहे हैं। शहीद के गांव का विकास योजना का शिलान्यास में कहां से देर हो रही है। यह तो नेता और अधिकारी ही जानेंगे। गांव के विकास के लिए 2012 में वर्तमान उपमुख्यमंत्री सुदेश कुमार महतो ने गांव को आदर्श ग्राम बनाने की घोषणा की थी। लेकिन घोषणा सिर्फ घोषणा ही रह गयी। जिसके बाद 2022 में वर्तमान खिजरी के विधायक राजेश कच्छप के अथक प्रयास से गांव में योजनाओं की स्वीकृति मिली है। लेकिन फिर कार्य आगे नहीं बढ़ा। इससे शहीद के वशंजों के साथ स्थानीय ग्रामीणों में भी भारी रोष है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *