शर्म आनी चाहिए कि ट्रॉली के लिए मोबाइल गिरवी रखना पड़ता है

By | November 18, 2022

रिम्स से जुड़े कई मामलों व बदहाली पर हाईकोर्ट में हुई सुनवाई, कहा
रिम्स की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि रिम्स कोर्ट चला रहा

रांची। रिम्स की बदहाली एवं रिम्स से जुड़े अन्य मामलों में आज हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने रिम्स प्रबंधन को फटकार लगाते हुए कहा कि शर्म आनी चाहिए कि एक ट्रॉली लेने के लिए मोबाइल गिरवी रखना पड़ता है। झारखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजित नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने विभिन्न मामलों की सुनवाई एक साथ की। रिम्स से जुड़ी कई रिट याचिकाओं पर एक साथ सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान रिम्स की बदहाली पर कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की। वहीं नियुक्ति से जुड़े मामले पर अदालत ने कहा कि जांच के लिए कमेटी गठित होगी। इसके साथ ही कोर्ट ने रिम्स की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि रिम्स कोर्ट चला रहा। झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की खंडपीठ में रिम्स में थर्ड फोर्थ ग्रेड पर होने वाली नियुक्ति से संबंधित मामले में भी सुनवाई की। सुनवाई के दौरान अदालत ने विज्ञापन में की गई गलतियों की जांच कराने की बात कही।

गलती करने वाले अधिकारियों के खिलाफ बनेगी जांच कमिटी
अदालत ने मौखिक रूप से कहा कि विज्ञापन में झारखंड का नागरिक होने की शर्त लगाए जाने वाले अधिकारियों के खिलाफ जांच कमेटी का गठन किया जाएगा। इस दौरान रिम्स ने माना कि विज्ञापन में गलती हुई है। इस पर अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 23 नवंबर की तिथि निर्धारित की है।
नियुक्ति पत्र पर कोर्ट ने लगा दी थी रोक
पूर्व में अदालत में उक्त पदों पर चयनित हुए अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देने पर रोक लगा दी थी। साथ ही अदालत ने कहा था कि हाईकोर्ट के अंतिम फैसले से नियुक्ति प्रक्रिया भी प्रभावित होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *